आरबीआई ने दी क्रेडिट कार्ड रखने वालों को राहत की सांस, नहीं हो सकेगा सिबिल स्कोर कम, जाने क्या है नया नियम

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now

आरबीआई ने दी क्रेडिट कार्ड रखने वालों को राहत की सांस, नहीं हो सकेगा सिबिल स्कोर कम जाने क्या है नया नियम

रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने एक-एक करके बहुत बड़ी खुशखबरियां जनता को इस बार की मॉनिटर पॉलिसी की बैठक मे दी है। आरबीआई ने नई नीति के तहत सिविल स्कोर से सम्बंधित परेशानी को दूर करने के लिए नई गाइडलाइन जारी की है, जिससे जनता को राहत की सांस मिली है की इससे अब सिबिल स्कोर ख़राब नहीं होगा, जानिए क्या है नये नियम जिससे नहीं होगा अब सिविल स्कोर कभी भी ख़राब।

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने कहा है कि अब अपने क्रेडिट कार्ड पर सिविल स्कोर खराब होने वाले ग्राहको की सूची सिविल कंपनी को देने से पहले ग्राहक को देगी। जिससे की ग्राहक अपने सिविल स्कोर को ख़राब होने से बचाने की कोशिश कर सके। आरबीआई ने सिविल कंपनी को एक और आदेश जारी किया ब जिसके तहत अब सिबिल कंपनी को सिविल स्कोर जाँचने की सूचना ग्राहक को मेल कर के देना आवश्यक होगा।

क्या है आरबीआई के नये नियम

आरबीआई की और से जनता को सिविल स्कोर को खराब होने से बचाने के लिए जो नये नियम जारी किये है वह नीचे कुछ इस प्रकार से है जैसे की…

  • आरबीआई के नये नियम के अनुसार अब सिविल कंपनी को एक बार साल मे ग्राहकों को उनके सिविल स्कोर की पूरी रिपोर्ट बिल्कुल मुफ्त मे देनी होंगी।
  • अगर बैंक के द्वारा ग्राहक की किसी रिक्वेस्ट को अस्वीकार किया जाता है तो उसकी वजह भी बतानी होंगी।
  • क्रेडिट कार्ड पर लोन देने वाले बैंक या कंपनी को एक नोडल अफसर रखना होगा जो की क्रेडिट स्कोर से सम्बंधित दिक्कत को सुलझाने मे ग्राहक की मदद करेगा।
  • अगर किसी ग्राहक के द्वारा की गई शिकायत का निपटारा बैंक या कंपनी 30 दिनों के अंतर्गत नहीं करती है तो उसे 30 दिन के बाद ₹100 रूपये प्रति दिन के हिसाब से ज़ुर्माना देना होगा, जो की आरबीआई का एक बड़ा आदेश है।

आरबीआई के द्वारा बनाये गए इन नियमो को अप्रैल 2024 से लागू किया जायेगा, आरबीआई की तरफ से इन नये नियमो को ग्राहकों के द्वारा सिविल स्कोर से सम्बंधित हो रही लगातार शिकायत के चलते बनाये गए है, ताकि इन समस्या का समाधान आसानी से कम समय मे हो सके।

इसे पढ़े – आरबीआई ने केवल इन दो जगह पर ही क्यों बड़ाई यूपीआई पेमेंट की लिमिट