कारक किसे कहते हैं? (Karak Kise Kahate Hain?): कारक की परिभाषा, भेद, चिह्न और उदाहरण

Emka News
6 Min Read

कारक किसे कहते हैं? (Karak Kise Kahate Hain?): कारक की परिभाषा, भेद, चिह्न और उदाहरण, दोस्तों हम इस आर्टिकल में आप लोगों को कारक किसे कहते हैं कारक की परिभाषा क्या होती है यह कितने प्रकार के होते हैं और उनके चिन्ह और उदाहरणों के साथ आप लोगों के सामने इस आर्टिकल में संक्षेप में बताएंगे

inline single

साधारण भाषा में कोई भी काम या कोई भी क्रिया  करने में जो मुख्य भूमिका निभाता है उसे ही  कारक कहते हैं कारक जो शब्द है यह‘कृ’ धातु और ‘अक’ प्रत्यय (कृ+अक=कारक) से मिलकर बना है अथवा कारक किसे कहते हैं इसकी जानकारी हम आप लोगों को नीचे विस्तार में देंगे

कारक किसे कहते हैं? (Karak Kise Kahate Hain?): कारक की परिभाषा, भेद, चिह्न और उदाहरण

संज्ञा और सर्वनाम वह स्वरूप जिसका सीधा संबंध क्रिया से होता है उसे हम लोग कारक कहते हैं कारक का मतलब होता है कार्य करने वाला जो किसी भी काम को पूरा करने में अहम भूमिका निभाता है उसे कारक परिभाषित किया गया | 

कारक की परिभाषा

अगर कारक को परिभाषित करें तो कारक का अर्थ होता है किसी कार्य को करने वाला। यानी जो भी किसी क्रिया को करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, उसे हम कारक कहते हैं।”

inline single

कारक के भेद

दोस्तों अगर हम कारक के भेद या प्रकार के बारे में बात करें तो कारक 8 प्रकार के होते हैं जो निम्नलिखित है

1. कर्ता कारक- कर्ता कारक किसे कहते हैं जिसके माध्यम से कार्य हो रहा है उसकी जानकारी मिलती है कर्ता कारक का विभक्ति चिह्न ‘ने’ होता है।

inline single

2 .कर्म कारक- वो वस्तु या व्यक्ति जिस पर वाक्य में की गयी क्रिया का प्रभाव पड़ता है, उसे कर्म कारक कहा जाता है। कर्म कारक का विभक्ति चिह्न ‘को’ होता है।

3 करण कारक- करण कारक का मतलब होता है जिसमें कोई क्रिया हो रही है लेकिन उस क्रिया को करने के लिए दूसरे व्यक्ति की मदद ली जा रही है उसे ही हम लोग करण कारक करते हैं करण कारक के दो विभक्ति चिह्न होते हैं- ‘से’ और ‘के द्वारा’।

inline single
कारक किसे कहते हैं? (Karak Kise Kahate Hain?): कारक की परिभाषा, भेद, चिह्न और उदाहरण
Karak Kise Kahate Hain?

4. सम्प्रदान कारक-

संप्रदान कारक का मतलब होता है कि आप जब किसी को कुछ देंगे या किसी के लिए कुछ करेंगे तो उसे ही हम लोग सम्प्रदान कारक कहते हैं सम्प्रदान कारक का विभक्ति चिह्न ‘के लिए’ और ‘को’ है।

inline single

5 अपादान कारक- जब संज्ञा या सर्वनाम के किसी रूप से किन्हीं दो चीज़ों के अलग होने का बोध होता है, तब उस स्थान पर अपादान कारक होता है। अपादान कारक का भी विभक्ति चिह्न ‘से’ होता है। ‘से’ चिह्न करण कारक का भी होता है लेकिन वहां इसका अर्थ साधन से होता है। यहाँ ‘से’ का अर्थ किसी चीज़ से अलग होने को दर्शाता है।

6 संबंध कारक- इस कारक के नाम से ही पता चल रहा है कि यह किन्हीं वस्तुओं में संबंध को दर्शाता है। संज्ञा या सर्वनाम का वह रूप जो हमें किन्हीं दो वस्तुओं के बीच संबंध का बोध कराता है, उसे संबंध कारक कहा जाता है। संबंध कारक के कई विभक्ति चिह्न हैं, जैसे- ‘का’, ‘के’, ‘की’, ‘ना’, ‘ने’, ‘नी’, ‘रा’, ‘रे’, ‘री’।

inline single

7 अधिकरण कारक- अधिकरण का मतलब है- आश्रय। संज्ञा का वो रूप जिससे क्रिया के आधार का बोध हो, उसे अधिकरण कारक कहा जाता है। इसके विभक्ति चिह्न ‘में’ और ‘पर’ होते हैं।

8 संबोधन कारक- यह संज्ञा या सर्वनाम का वह रूप है जिससे किसी को बुलाने, पुकारने या बोलने का बोध होता है, संबोधन कारक कहा जाता है। संबोधन कारक की पहचान करने के लिए ‘!’ इस चिह्न का इस्तेमाल किया जाता है। संबोधन कारक के विभक्ति चिह्न ‘अरे’, ‘हे’, ‘अजी’, ‘ओ’, ‘ए’ होते हैं।

inline single

कारक चिह्न

जैसे कि इस आर्टिकल में आप लोगों को कारक किसे कहते हैं कारक कितने प्रकार के होते हैं इसकी जानकारी दी गई है इसलिए इन कारकों के चिन्हों के बारे में आपको जानकारी टेबल के माध्यम से दूंगा

कारककारक चिह्न
कर्ता कारकने
कर्म कारकको
करण कारकसे, के द्वारा
सम्प्रदान कारकको, के लिए
अपादान कारकसे
संबंध कारकका, के, की, ना, नी, ने, रा, रे, री
अधिकरण कारकमें, पर
संबोधन कारकऐ !, हे !, अरे !, अजी !, ओ !
कारक

कारक के उदाहरण

कारक के के उदाहरण इस प्रकार है

inline single

1-कर्ता कारक के उदाहरण

रोहित ने अपने बच्चों को पीटा

inline single

महेश ने एक सुंदर पत्र लिखा

2-कर्म  कारक  का उदाहरण

inline single

राजू ने राधा को बुलाया

गोपाल ने घोड़े को पानी पिलाया

inline single

3-करण कारक के उदाहरण

बच्चे खिलौनों से खेल रहे हैं

inline single

पत्र को कलम से लिखा गया

4-सम्प्रदान कारण के उदाहरण

inline single

मां ने अपने बच्चे के लिए पानी लाया

महेश ने तुषार को गाड़ी दी।

inline single

5-अपादान कारक के उदाहरण

मोहित छत से गिर गया।

inline single

चूहा बिल से बाहर निकला।

6-संबंध कारक के उदाहरण

वह मोहन का बेटा है।

यह रोहन की बहन है।

7-अधिकरण कारक के उदाहरण

वह रोज़ सुबह गंगा किनारे जाता है। 

वह पहाड़ों के बीच में है।

8-संबोधन कारक के उदाहरण

हे राम! बहुत बुरा हुआ।

अरे भाई! तुम तो बहुत दिनों में आये

समय के महत्व पर निबंध | Eassy On Time in hindi

Clerk meaning kya hota hai

Share This Article
Follow:
Emka News पर अब आपको फाइनेंस News & Updates, बागेश्वर धाम के News & Updates और जॉब्स के Updates कि जानकारी आपको दीं जाएगी.
Leave a comment