Bihar Jalashay Matsyaki Vikas Yojana 2023: बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना से पाये 70% तक की सब्सिडी, यें रही आवेदन की पूरी प्रक्रिया

8 Min Read

Bihar Jalashay Matsyaki Vikas Yojana 2023: बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना से पाये 70% तक की सब्सिडी, यें रही आवेदन की पूरी प्रक्रिया

आज के समय मैं सामान्य खेती के अलावा अनेक ऐसे धंधे और बिजनेस खेती से संबंधित हैं जिससे किसानों को अच्छा खासा फायदा होता है। इस फायदे से वह अपने जीवन का विकास करते है एक अपने जीवन स्तर मे भी वृद्धि करते है। कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए सरकार के द्वारा अनेक योजनाओं को भी चलाया जाता है ताकि लोगों का खेती के प्रति आकर्षक कम ना हो। इसी तरह की बिहार सरकार के द्वारा एक योजना चलाई जाती है जिसका नाम है बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना। जिसमे सरकार के द्वारा लोगों को मछली पालन करने के उद्देश्य के लिए सब्सिडी दीं जाती है ताकि वह इसे खेती साथ-साथ आसानी से कर सके।

Bihar Jalashay Matsyaki Vikas Yojana 2023

बिहार मत्स्ययाकि योजना का लाभ लेकर बिहार के लोग आसानी से इस काम की शुरू कर सकते है क्योंकि इसके लिए उन्हें सरकार के द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है। सरकार इस योजना को इसलिए प्रारभ कर रही है ताकि किसानो की आय मे भी वृद्धि हो सके।

तो दोस्तों बिहार मत्स्ययाकि योजना क्या है इसके लिए आवेदन कौन कर सकता है और आवेदन कैसे करें की पूरी जानकारी को हम आपको नीचे इस लेख मे विस्तार से समझने जा रहे है। पूरी जानकारी को सटीक रूप से समझने के लिए हमारे इस लेख को अंत तक जरुर पढ़े।

बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना

बिहार जलाशय मत्स्ययाकि योजना बिहार सरकार के द्वारा कृषि की अतिरिक्त एक अन्य क्षेत्र से आए में वृद्धि करने के लिए चलाई जाने वाली एक आर्थिक सहायता योजना है। इस योजना केतहत मछुआरों को या फिर किसानों कोमछली पालन करने के लिए लगने वाली लागत का 70% खर्चा अनुदान के रूप में बिहार सरकार के द्वारा प्रदान किया जाता है। ताकि मछुआरों को या किसानों को  इस धंधे को प्रेम करने में किसी भी प्रकार की आर्थिक समस्या का सामना न करना पड़े।

हालांकि अभी बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना को संपूर्ण राज्य में प्रारंभ नहीं किया गया है इसे कुछ गिने-चुने जिलों में ही अभी वर्तमान में लागू की गई है।बिहार के जितने भी क्षेत्र में अभी इस योजना को शुरू किया गया है उन सभी क्षेत्र के नाम नीचे हम आपको बता देंगे।

उद्देश्य

बिहार सरकार का मत्स्ययाकि की विकास योजना को करने के निम्नलिखित उद्देश्य रहे हैं।

  • बिहार के मछुआरों और किसानों को कृषि के अतिरिक्त एक अन्य आय के संसाधन से जोड़ना।
  • बिहार के किसानों की आय में वृद्धि करना।
  • इस योजना के प्रारंभ करने से गरीब लोगों के जीवन स्तर को ऊपर करना इस योजना का उद्देश्य रहा है।
  • निम्न वर्ग के लोगों को इस योजना का लाभ देना बिहार सरकार का एक मुख्य उद्देश्य है।
  • 50% से भी अधिक का अनुदान देने की वजह किसानों को इस कार्य को करने मे आसानी देना।

आवश्यक दस्तावेज

बिहार जलाशय मत्स्ययाकि विकास योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास इन दस्तावेजों का होना आवश्यक ही होगा।

  • आधार कार्ड नम्बर
  • बैंक खाता पासबुक
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नम्बर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट साइज की फोटो

एमपी सरल बिजली स्कीम के द्वारा इस तरह से करवाये अपना बिजली बिल माफ़, यहाँ पर क्लिक कर करें अभी रजिस्ट्रेशन

पात्रता मापदंड

चूंकि बिहार जलाशय मत्स्ययाकि विकास योजना के लिए हर कोई आवेदन नहीं कर सकता है। इसलिए इसके लिए नीचे दीं गयी इन पात्रता का होना आवश्यक है।

  • सबसे पहले तो आवेदन करने वाला बिहार का मूल निवासी होना चाहिए।
  • केवल मछुआरे या किसान वर्ग के लोग ही इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
  • बिहार मत्स्ययाकी विकास योजना मे आवेदन करने के लिए आपके नाम पर स्वयं के जमीन दस्तावेज होने चाहिए।
  • 18 वर्ष से उससे अधिक आयु के व्यक्ति ही यह योजना के लिए लाभ ले सकते हैं।
  • कृषि अनुदान से संबंधित किसी भी अन्य योजना का लाभ आप इससे पहले ना ले चुके हो, ऐसी स्थिति में ही आपको बिहार मत्स्ययाकी योजना का लाभ दिया जाएगा।

कैसे करें आवेदन

बिहार जलाशय मत्स्ययाकि विकास योजना मे आवेदन करने के लिए नीचे दिए स्टेप्स को पूरा करना होगा।

  • सबसे पहले तो आपको बिहार मत्स्य विभाग की ऑफिशल वेबसाइट http://fisheries.bihar.gov.in/ पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपको बिहार मत्स्य सम्पदा की लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने बॉक्स पेज ओपन होगा, जिसके नीचे आपको रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन मिलेगा।
  • नीचे नया उपयोगकर्ता पर क्लिक करते ही आपकी स्क्रीन पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल कर सामने आ जायेगा।
  • फॉर्म मे ऊपर व्यक्तिगत या सामूहिक मे से किसी एक विकल्प को चुन लेना होगा।
  • अब इसके बाद आपको फॉर्म नीचे दीं गयी सभी जानकारी जैसे नाम, स्थाई पता और बैंक खाता विवरण को भर देना है।
  • अब अंत मे अपने मोबाइल नम्बर लिख कर के सेंड OTP पर क्लिक कर दें।
  • OTP आने के बाद इसे दर्ज जरूर दें।
  • इसके बाए आपके दिए हुए मोबाइल नम्बर पर आपका रजिस्ट्रेशन नम्बर और पासवर्ड आ जायेगा।
  • इसके बाद आपको वापिस उसी बॉक्स पेज पर आना है।
  • वहाँ आपको अपने रजिस्ट्रेशन नम्बर और पासवर्ड को डाल कर लॉगिन करना है।
  • लॉगिन करने के बाद आपके सामने बहुत सारी योजना के ऑप्शन आ जायेगे।
  • जिसमें से आपको अपनी बिहार जलाशय मत्स्ययाकि विकास योजना पर क्लिक करना है।
  • यहाँ आपसे पूछी जाने वाली सभी जानकारी को सही सही भर देना है।
  • अब आपको फाइनल सबमिट कर के आवेदन का की पावती को रख लेना है।
  • इस तरह से आपका आवेदन सफलता पूर्वक हो जायेगा।

लाभ और विशेताएं

बिहार मत्स्ययाकि विकास योजना से बिहार मे एक नयी क्रांति का विकास होगा। इससे होने वाले लाभ निम्न है।

  • इससे बिहार के मछुआरे और किसानो को आर्थिक सहायता का एक बड़ा हिस्सा सरकार के द्वारा दिया जायेगा।
  • आवेदन करने की प्रक्रिया बहुत ही आसान है।
  • इस योजना का लाभ लेना के बाद किसान अपने जीवन स्तर मे वृद्धि कर सकेंगे।
  • बिहार मत्स्ययाकि योजना से से किसानो mi आय मे अच्छी वृद्धि होंगी।
  • इस योजना से केवल किसान वर्ग के और मछुआरे समुदाय के लोगों को ही लाभ दिया जायेगा।

निष्कर्ष

तो दोस्तों आज के इस लेख मे हमने जाना बिहार सरकार के द्वारा चलाई जाने वाली एक कल्याणकारी योजना बिहार जलाशय मत्स्ययाकि योजना के बारे मे, इसमें हमने जाना किसे मिलेगा योजना और कैसे करें आवेदन।

आशा करता हूँ की आपको हमारा यह लेख काफ़ी पसंद आया होगा। कमेंट कर के इसकी जानकारी हमें अवश्य दें और साथ मे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

तमिलनाडु यूनिफॉर्मड स्टाफ बोर्ड में निकली 10वीं पास युवाओं के लिए बंपर नौकरियां

FAQ’S

  • बिहार जलाशय मत्स्ययाकि योजना मे कितने प्रतिशत तक अनुदान मिलेगा?

    बिहार जलाशय मत्स्ययाकि योजना मे बिहार सरकार के द्वारा 70% तक का अनुदान दिया जायेगा।

  • बिहार मत्स्ययाकि योजना को किन-किन क्षेत्रों मे चालू किया गया है?

    बिहार जलाशय मत्स्ययाकि विकास योजना को बांका, नवादा,सासाराम,कैमूर,मुंगेर और लखीसराय जैसे क्षेत्रों मे चालू किया गया है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version