Osho: अच्छे होने के साथ बड़ी कठनाईया है क्यो ?

BY MUKESH

ओशो कहते है इस अनैतिक समाज में अच्छा होना ठीक नहीं है

अच्छे होने में बड़ी कठनाईया इसलिए भी है क्योकि दुनिया अच्छी नहीं है

आपने देखा होगा श्री राम को पूजने वाले कुछ लोग राम मंदिर के खिआफ़ थे, स्वयं के खिलाफ, जो राम के ना हुए वो आपके या मेरे कैसे होंगे

यही साधुता है, नंगा खड़ा होना साधुता नहीं बल्कि साधु की तपस्या है की वो इस अनैतिक समाज में भी अच्छाई फैला सके/नैतिक बना सके

नैतिक हो जाना है इस अनैतिक समाज में यही साधुता है

अगर आप ग्रहस्त में रहते हुए भी एक अच्छे इंसान है तो आप साधु है